Smartphone Lovers

Everything about SmartPhone

Breaking

Monday, July 20, 2020

Indian Smartphone company इंडिया में फेल क्यों हुई ?

Indian Smartphone company इंडिया में फेल क्यों हुई ?

हेलो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि Indian SmartPhone Company इंडिया में फेल क्यों हुए ? आखिर ऐसा क्या कारण था  जिसकी वजह से indian SmartPhone Company इंडिया की मार्केट में ही फेल हो गए |जबकि साल 2014 में इंडियन SmartPhone कंपनी Micromax ने सबसे ज्यादा स्मार्टफोन बेचे थे | इसके बावजूद इंडियन SmartPhone कंपनी इंडिया में फेल क्यों हो गई |

दोस्तों आज हम इसी के बारे में बात करेंगे दोस्तों 2014 में माइक्रोमैक्स ने इंडिया में सबसे ज्यादा मोबाइल बेचे थे इसके अलावा Karbon, Spice, Lava यह भी बहुत अच्छे चल रहे थे | आज के आर्टिकल में मैं ही यही बताऊंगा कि यह Indian brand फेल क्यों हो गए | दोस्तों आज की डेट में तो यह इंडियन smartphone पता ही नहीं लगते कि यह मार्केट में है या नहीं है क्योंकि इन्होंने बहुत ही कम मार्केट कवर किया हुआ है लगभग यह मार्केट से गायब ही हो चुके हैं |


Indian Smartphone company इंडिया में फेल क्यों हुई , indian mobile company
Indian Smartphone company इंडिया में फेल क्यों हुई  ?


 दोस्तों यह बात है 2010 और 2011 की जब इंडिया में Android SmartPhone पॉपुलर होना चालू हो गए थे हम लोग भी अपने फीचर फोन को हटाकर SmartPhone खरीदने लगे थे | मेरा मतलब है कि लोग भी अपने आप को upgrade कर रहे थे स्मार्टफोन के मामले में, लेकिन उस समय जो mobile फेमस थे | HTC,  LG, Samsung और Sony इन सबके प्राइस बहुत ज्यादा थे | आम इंसान के बजट के बाहर थे लेकिन लोग तो अपने आप को upgrade करना चाहते थे और नए smartphone लेना चाहते थे | Feature phone हटाकर, दोस्तो इंडिया में प्राइस को लेकर बहुत ज्यादा ध्यान दिया जाता है और Indian SmartPhone company ने यह बात समझ ली और फिर Indian SmartPhone Company चाइना गई और वहां से unbranded phone लेकर आ गई मतलब यह कि बहुत सारे यूनिट इन्होंने unbranded phone की मंगवा ली |  India में फिर उन्होंने उसे Chinese phone की पैकेजिंग और  ब्रांडिंग करना शुरू कर दिया और इंडियन मार्केट में बहुत ही सस्ते में उतार दिया |

दोस्तों लोग तो smartphone खरीदना ही चाहते थे | LG. Samsung, HTC यह उस समय काफी महंगे थे इन लोगों को फिर यह Indian smartPhone काफी ज्यादा पसंद आए जैसे कि Lava, Karbonn, Spice, Micromax तो फिर उस समय यह indian smartphone company शुरुआत में काफी ज्यादा उठी और इन्होंने बहुत ज्यादा मोबाइल बेचे |

 साल 2014 में तो Micromax ने  सबसे ज्यादा मोबाइल बेचे  और Samsung को तक पीछे कर दिया | यह smartphone कंपनी सस्ते में smartphone दे रही थी | अब दोस्तों एक बात समझिये कि इंडियन स्मार्टफोन की ना कोई फैक्ट्री और न यूनिट, ना ही कोई R&D department था | यह सिर्फ china जाती वहां से unbranded phone लाकर यहां packaging और branding करके यहां बेच  देते थे | उन्होंने केवल उस समय मौके का फायदा उठाया क्योंकि लोग उस समय smartphone खरीदना चाहते थे और उस समय इन लोगों ने केवल profit पर  ध्यान दिया और उस समय इन लोगों को प्रॉफिट बहुत ज्यादा मिल रहा था  |

Indian smartphone company के fail होने का मुख्य कारण 

2014 तक तो सब ठीक-ठाक चल रहा था | दोस्तों 2014 में ही india में आ गया Oneplus, xiaomi इंडिया में आ गया फिर यह smartphone ऐसी ऐसी चीजें अपने smartphone में ऑफर कर रहे थे जो कि इनके पास नहीं थी और उस समय तो फिर है ना samsung, LG इन लोगों ने भी सस्ते फोन निकालना चालू कर दिया था | तो फिर प्राइस का तो इतना मतलब रहे नहीं जाता क्योंकि सभी फिर कंपनियां सस्ते phone देने लगी थी और फिर Mi ने तो फिर बहुत सस्ते में ही काफी कुछ दे दिया और फिर जब तक online का भी मार्केट आ गया | लोग ऑनलाइन खरीदारी करने लगे और Xiaomi, oneplus ऑनलाइन में मोबाइल सेल कर रहे थे और यह ऐसे ऐसे फीचर्स दे रहे थे जो इनके पास नहीं थे | तो फिर इस तरह Indian smartphone company का  ऑनलाइन मार्केट खत्म होता चला गया |

लेकिन फिर भी इनका थोड़ा बहुत offline market ठीक-ठाक चल रहा था  फिर उस समय offline मार्केट में आ गए Vivo, oppo फिलहाल शुरुआत में तो इनके फोन भी कुछ खास नहीं थे, normal थे | लेकिन इन्होंने इतनी advertising की, कि हर गली हर मोहल्ले में अपना Ad कर दिया | Oppo, vivo थोड़े में  में बहुत चीजें देने लगे  जो कि indian smartphone के पास नहीं थी | इस तरह यह धीरे-धीरे offline market में भी पीछे चले गए अब बाकी कंपनियां तो एक से एक नए फीचर्स दे रही थी और indian smartphone company सॉफ्टवेयर अपडेट तक नहीं दे पा रही थी | फिर धीरे-धीरे यह online और offline दोनों में सिमट गई | Indian smartphone company ने बीच में कोशिश तो की थी मार्केट में आने की, लेकिन टक्कर नहीं दे पाई, बाकी smartphone company को, फिर इस तरह धीरे-धीरे पीछे होती चली गई इंडियन स्मार्टफोन कंपनी |


वीडियो देखें :- इंडियन मोबाइल कंपनी में भारत में फेल क्यों हुई ?



दोस्तो इंडियन smartphone कंपनी ने  प्रॉफिट पर ज्यादा ध्यान दिया कस्टमर की जरूरत पर ध्यान नहीं दिया कि कस्टमर क्या चाहता है अब दोस्तों Realme को ही देख लो 2 साल पहले कंपनी आई उन्होंने कस्टमर के डिमांड को समझा कस्टमर की जरूरत को समझ कर सही प्राइस में सही चीजें देने लगे तो फिरRealme ने भी इंडिया के मार्केट में अपने अच्छे खासे कदम रख दिए  और आज के date में तो Realme में काफी ज्यादा फोन बेच रहा है क्योंकि वह सही प्राइस में और सही चीज दे रहे हैं |

दोस्तों अब बात यह आती है कि क्या अभी Indian smartphone company के पास कोई मौका है या नहीं है सबसे अच्छी बात दोस्तों क्योंकि अभी यहां इंडिया में chinese company का boycott चल रहा है तो अभी इंडियन कंपनीज के पास बहुत अच्छा मौका है क्योंकि इंडिया में smartphone market अभी बहुत ज्यादा बढ़ेगा क्योंकि बहुत से लोगों के पास अभी feature phone है | वो स्मार्टफोन खरीदना चाहते हैं दोस्तों अगर कोई indian brand अच्छे प्राइस में अच्छी चीज लेकर आएगा तब तो मार्केट में जरूर चलेगा इंडियन ब्रांड को फिर है ना अपना प्रॉफिट मार्जिन कम देखना होगा और कस्टमर की जरूरत का ध्यान ज्यादा रखना होगा टाइम टाइम पर कस्टमर का feedback लेना होगा | टाइम टाइम पर software update देना पड़ेगा अच्छी खासी गारंटी देनी पड़ेगी इंडियन smartphone ब्रांड को long term goal के साथ आना पड़ेगा मार्केट में, तब हो सकता है सक्सेस हो जाए लेकिन इस समय इंडियन स्मार्टफोन ब्रांड के पास बहुत अच्छा मौका है क्योंकि अभी इंडिया चाइना में तनाव चल रहा है Chinese brand को लोग बायकाट कर रहे हैं |

दोस्तों यही कहना चाहूंगा अब last में, इंडियन स्मार्टफोन कंपनी चाहे तो भारत में फिर से अपने कदम जमा सकती हैं  और फिर से पहले की तरह मार्केट में छा सकती हैं |

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में इतना ही अगर आपके मन में इस आर्टिकल से जुड़ा कोई सवाल है तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैं हमें मेल कर सकते हैं हम से कांटेक्ट कर सकते हैं, ओके दोस्तों,

धन्यवाद

No comments:

Post a Comment